You are currently viewing जल प्रदूषण के प्रमुख स्रोत ( Main Sources of Water Pollution )

जल प्रदूषण के प्रमुख स्रोत ( Main Sources of Water Pollution )

जल प्रदूषण मुख्य रूप से औद्योगीकरण, कृषि गतिविधियों, प्राकृतिक कारकों और अपर्याप्त जल आपूर्ति और सीवेज उपचार सुविधाओं में केंद्रित है। सबसे पहले, उद्योग जल प्रदूषण का मुख्य कारण है, इन उद्योगों में डिस्टिलरी उद्योग, टेनरी उद्योग, लुगदी और कागज उद्योग, कपड़ा उद्योग, खाद्य उद्योग, लोहा और इस्पात उद्योग, परमाणु उद्योग आदि शामिल हैं। औद्योगिक उत्पादन में विभिन्न जहरीले रसायन, कार्बनिक और अकार्बनिक पदार्थ, जहरीले सॉल्वैंट्स और वाष्पशील कार्बनिक रसायन जारी किए जा सकते हैं। यदि इन अपशिष्टों को पर्याप्त उपचार के बिना जलीय पारिस्थितिक तंत्र में छोड़ दिया जाता है, तो वे जल प्रदूषण का कारण बनेंगे।

Main Source of Water Pollution

आर्सेनिक, कैडमियम और क्रोमियम अपशिष्ट जल में छोड़े जाने वाले महत्वपूर्ण प्रदूषक हैं, और औद्योगिक क्षेत्र हानिकारक प्रदूषकों में महत्वपूर्ण योगदानकर्ता है। शहरीकरण में तेजी के साथ, औद्योगिक उत्पादन से अपशिष्ट जल में धीरे-धीरे वृद्धि हुई है। इसके अलावा, औद्योगीकरण के कारण होने वाला जल प्रदूषण भी प्रत्यक्ष विदेशी निवेश से काफी प्रभावित होता है। कम विकसित देशों में औद्योगिक जल प्रदूषण का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश से सकारात्मक संबंध है।


सीवेज और अपशिष्ट जल ( Sewage and Waste Water ):

Sewage and Waste Water

उपयोग के बाद पानी अपशिष्ट जल बन जाता है। अपशिष्ट जल घरेलू हो सकता है, जैसे शौचालय, सिंक, या शॉवर से पानी, या वाणिज्यिक, कृषि या औद्योगिक उपयोग से। अपशिष्ट जल का तात्पर्य वर्षा जल से भी है जो जमीन से तेल, ग्रीस, सड़क का नमक, मलबा या रसायनों को जलमार्गों में बहा देता है। संयुक्त राष्ट्र का अनुमान है कि 80% अपशिष्ट जल उपचारित या पुन: उपयोग किए बिना पारिस्थितिकी तंत्र में लौट आता है।


कृषि का प्रभाव ( Impact of Agriculture ):

कृषि से निकलने वाले कीटनाशक, नाइट्रोजन उर्वरक और जैविक कृषि अपशिष्ट जल प्रदूषण के महत्वपूर्ण कारण हैं। कृषि गतिविधियाँ नाइट्रेट, फॉस्फोरस, कीटनाशकों, मिट्टी के तलछट, लवण और रोगजनकों से पानी को दूषित कर देंगी। इसके अलावा, कृषि ने उनके प्राचीन राज्य में सभी मीठे पानी की प्रणालियों को गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त कर दिया है। चीन और भारत सहित विकासशील देशों के पानी की कमी वाले क्षेत्रों में सिंचाई के लिए अनुपचारित या आंशिक रूप से उपचारित अपशिष्ट जल का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है, और सीवेज में प्रदूषकों की उपस्थिति पर्यावरण और स्वास्थ्य के लिए खतरा पैदा करती है। चीन को एक उदाहरण के रूप में लेते हुए, सतही जल संसाधनों की मात्रा और गुणवत्ता में असंतुलन के कारण विकासशील देशों में कृषि उत्पादन की पानी की मांग को पूरा करने के लिए कुछ क्षेत्रों में अपशिष्ट जल सिंचाई का दीर्घकालिक उपयोग हुआ है, जिसके परिणामस्वरूप कृषि भूमि और भोजन की समस्या गंभीर हो गई है। प्रदूषण, कीटनाशक अवशेष और भारी धातु प्रदूषण से खाद्य सुरक्षा और मानव स्वास्थ्य को खतरा है।

Impact of Agriculture

कृषि द्वारा जल प्रदूषण का एक कारण वर्षा जल है। जब बारिश होती है, तो उर्वरक, पशु अपशिष्ट और कीटनाशक जैसे प्रदूषक तत्व खेतों से बहकर जलमार्गों में आ जाते हैं, जिससे पानी दूषित हो जाता है। कृषि उद्योग ताजे पानी के सबसे बड़े उपभोक्ताओं में से एक है। अमेरिका में, यह देश की लगभग 80% पानी की खपत के लिए जिम्मेदार है। अमेरिका में नदियों और नालों में प्रदूषण का मुख्य स्रोत कृषि भी है। कृषि से निकलने वाले प्रदूषण में आमतौर पर फॉस्फोरस और नाइट्रोजन की उच्च मात्रा होती है, जो शैवाल के विकास को प्रोत्साहित करती है। ये फूल विषाक्त पदार्थों का उत्पादन करते हैं जो मछली, समुद्री पक्षी और समुद्री स्तनधारियों को मारते हैं, साथ ही मनुष्यों को भी नुकसान पहुँचाते हैं।


प्लास्टिक और कचरा ( Plastic and Garbage ):

हम हर साल लगभग 1.4 बिलियन टन कचरा पैदा करते हैं। इस वार्षिक कचरे में से 10% में प्लास्टिक शामिल है। प्लास्टिक के व्यापक उपयोग के कारण, विशेषज्ञों का अनुमान है कि हर साल 4.8-12.7 मिलियन टन कचरा समुद्र में प्रवेश करता है।

जहाजों से गिर रहा मलबा, खाने के पैकेट जैसी इस्तेमाल की गई वस्तुओं को त्यागने वाले लोगों का कचरा नदियों के माध्यम से समुद्र में बह जाता है, लोग अपना कचरा समुद्र तट पर फेंक रहे हैं|

Plastic and Garbage

एक बार पानी में, प्लास्टिक और कचरा समुद्री जीवन और मानव स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है। जैसे-जैसे प्लास्टिक धीरे-धीरे टूटता है, माइक्रोप्लास्टिक बनता है। ये प्लास्टिक के छोटे-छोटे टुकड़े होते हैं जिनका आकार 5 मिलीमीटर से कम होता है। मछलियाँ इन माइक्रोप्लास्टिक का उपभोग कर सकती हैं, जिसे बाद में मनुष्य खा सकते हैं। संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि समुद्र में प्लास्टिक का मलबा हर साल दस लाख से अधिक समुद्री पक्षियों की मौत का कारण बनता है।


निष्कर्ष ( Conclusion ):

मानव शरीर का 60% से अधिक भाग पानी से बना है। इसलिए, हमें जीवित रहने के लिए स्वच्छ जल की आवश्यकता है। दुर्भाग्य से, दुनिया का अधिकांश पानी प्रदूषित है, और यह दुनिया की सबसे महत्वपूर्ण चुनौतियों में से एक है जिसका हम आज सामना कर रहे हैं। जल प्रदूषण के विभिन्न कारण हैं और हमें इस मूल्यवान संसाधन की सुरक्षा के लिए कई कदम उठाने की जरूरत है।


Leave a Reply