You are currently viewing जल प्रदूषण और स्वास्थ्य के बारे में सामाजिक जागरूकता ( Social Awareness about Water Pollution & Health )

जल प्रदूषण और स्वास्थ्य के बारे में सामाजिक जागरूकता ( Social Awareness about Water Pollution & Health )

लोगों के बीच जागरूकता पैदा की जानी चाहिए कि पानी एक दुर्लभ संसाधन है और दूषित पानी के सेवन या अंतर्ग्रहण से जलजनित बीमारियाँ हो सकती हैं जो सीधे मानव शरीर के स्वास्थ्य को प्रभावित करती हैं। पानी की स्थिति की जांच के लिए पानी की गुणवत्ता की नियमित निगरानी की जानी चाहिए।

सरकारों को अनुपचारित कचरे के निर्वहन के संबंध में उद्योगों पर अधिक और सख्त दंड लगाना चाहिए। जल प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए सरकारी नीतियों का उचित कार्यान्वयन आवश्यक है। सरकारों को अधिक प्रभावी शमन रणनीतियाँ लागू करनी चाहिए। प्रत्येक व्यक्ति को जिम्मेदार होना चाहिए और जल को प्रदूषण से बचाने में अपनी भूमिका समझनी चाहिए।

जल प्रदूषण को कम करने और भावी पीढ़ियों के लिए हमारे जल संसाधनों की रक्षा के लिए कार्रवाई करना महत्वपूर्ण है। भारत में जल प्रदूषण का मानव स्वास्थ्य, पर्यावरण, अर्थव्यवस्था और समाज पर गंभीर प्रभाव पड़ता है। इस मुद्दे के समाधान के लिए, भारत सरकार ने जल प्रदूषण को नियंत्रित करने के उद्देश्य से विभिन्न उपाय पेश किए हैं। इन उपायों में सख्त पर्यावरण नियमों का कार्यान्वयन और उद्योगों और कृषि में टिकाऊ प्रथाओं को बढ़ावा देना शामिल है।


जल प्रदूषण को संबोधित करने में सामुदायिक भागीदारी का महत्व ( Importance of Community Involvement in Addressing Water Pollution ):

भारत में जल प्रदूषण को संबोधित करने में सामुदायिक भागीदारी महत्वपूर्ण है क्योंकि यह प्रदूषण की घटनाओं को गंभीर होने से पहले पहचानने और संबोधित करने में मदद कर सकता है। नागरिक विज्ञान और जमीनी स्तर के आंदोलन प्रदूषण की घटनाओं की निगरानी और रिपोर्टिंग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, जो प्रदूषण के प्रभाव को कम करने के लिए त्वरित कार्रवाई करने में मदद कर सकते हैं।

Importance of Community Involvement in Addressing Water Pollution

नागरिक विज्ञान में प्रदूषण की घटनाओं की निगरानी और रिपोर्ट करने के लिए वैज्ञानिक अनुसंधान में आम जनता को शामिल करना शामिल है। इसमें जल गुणवत्ता परीक्षण, जलीय जीवन के स्वास्थ्य की निगरानी और प्रदूषण स्रोतों की पहचान जैसी गतिविधियाँ शामिल हो सकती हैं।

जमीनी स्तर के आंदोलनों में समुदाय के सदस्यों को प्रदूषण के मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाने और बदलाव की वकालत करने के लिए एक साथ आना शामिल है। जमीनी स्तर के आंदोलन प्रदूषण की घटनाओं को संबोधित करने और भविष्य में प्रदूषण को रोकने के लिए नीतियों को लागू करने के लिए कार्रवाई करने के लिए स्थानीय अधिकारियों पर दबाव डाल सकते हैं।


भारत सरकार द्वारा जल प्रदूषण को रोकने के लिए उठाए गए महत्वपूर्ण कदम ( Important steps taken by the Government of India to prevent water pollution )

1) स्वच्छ भारत अभियान ( Clean India Movement ):

स्वच्छ भारत अभियान 2014 में सरकार द्वारा शुरू किया गया एक राष्ट्रीय स्वच्छता अभियान है। इसका उद्देश्य जल निकायों की सफाई सहित पूरे देश में स्वच्छता और स्वच्छता को बढ़ावा देना है।
शून्य तरल निर्वहन नीति: शून्य तरल निर्वहन नीति औद्योगिक अपशिष्ट जल के पुन: उपयोग और पुनर्चक्रण को बढ़ावा देकर जल प्रदूषण को कम करने की एक पहल है। इस नीति के तहत, उद्योगों को जल संसाधनों पर उनके प्रभाव को कम करने के लिए अपशिष्ट जल का उपचार और पुन: उपयोग करना आवश्यक है।

Clean India Movement


2) स्वच्छ गंगा मिशन ( Clean Ganga Mission ):

स्वच्छ गंगा मिशन भारत सरकार का एक प्रमुख कार्यक्रम है जिसका उद्देश्य गंगा नदी को साफ करना है, जो दुनिया की सबसे प्रदूषित नदियों में से एक है। मिशन में औद्योगिक प्रदूषण को कम करने, अपशिष्ट जल उपचार में सुधार और सार्वजनिक जागरूकता को बढ़ावा देने के उपाय शामिल हैं।

Clean Ganga Mission


3) राष्ट्रीय नदी संरक्षण योजना (एनआरसीपी) ( National River Conservation Plan (NRCP) ):

एनआरसीपी भारत में नदियों की सफाई और संरक्षण के लिए एक व्यापक योजना है। इस योजना के तहत, सरकार प्रदूषण को कम करने और नदियों में पानी की गुणवत्ता में सुधार के लिए कई परियोजनाएं लागू कर रही है।

National River Conservation Plan (NRCP)


4) जल (प्रदूषण की रोकथाम और नियंत्रण) अधिनियम, 1974 ( Water (Prevention and Control of Pollution) Act, 1974 ):

यह अधिनियम भारत में जल प्रदूषण को रोकने और नियंत्रित करने के लिए पेश किया गया था। यह पानी की गुणवत्ता के लिए मानक निर्धारित करता है, जल निकायों में प्रदूषकों के निर्वहन को नियंत्रित करता है और उल्लंघन के लिए दंड स्थापित करता है।

Water (Prevention and Control of Pollution) Act, 1974


पेयजल गुणवत्ता मानक निर्धारण ( Drinking Water Quality Standards Determination )

ध्यान दें कि ये मानक केवल न्यूनतम आवश्यकताएं हैं और मानव उपभोग के लिए पानी की सुरक्षा की गारंटी नहीं देते हैं। विभिन्न क्षेत्रों में पानी की गुणवत्ता व्यापक रूप से भिन्न हो सकती है। यह विभिन्न प्रकार के कारकों से प्रभावित हो सकता है, जैसे औद्योगिक और कृषि गतिविधियाँ, शहरीकरण और जलवायु परिवर्तन। सभी के लिए सुरक्षित और स्वच्छ पानी सुनिश्चित करने के लिए पानी की गुणवत्ता का नियमित परीक्षण और उचित उपचार उपायों का कार्यान्वयन आवश्यक है।

बीआईएस ने भारत में पेयजल गुणवत्ता मानक निर्धारित किए हैं। पीएच के लिए अधिकतम अनुमेय सीमा 6.5 से 8.5 है, कुल घुलनशील ठोस (टीडीएस) 500 मिलीग्राम/लीटर है, फ्लोराइड 1 मिलीग्राम/लीटर है, आर्सेनिक 0.01 मिलीग्राम/लीटर है, और नाइट्रेट 45 मिलीग्राम/लीटर है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) भी सिफारिश करता है कि पीने का पानी बैक्टीरिया, वायरस और हानिकारक रसायनों से मुक्त होना चाहिए।


जल प्रदूषण के परिणाम ( Consequences of Water Pollution )

1) स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभाव ( Health Effects ):

जल प्रदूषण उन मनुष्यों के लिए महत्वपूर्ण स्वास्थ्य जोखिम रखता है जो इसका उपयोग पीने, खाना पकाने, स्नान और अन्य दैनिक गतिविधियों के लिए करते हैं। दूषित पानी से हैजा, टाइफाइड, हेपेटाइटिस ए और डायरिया जैसी बीमारियाँ हो सकती हैं, जिनका इलाज न किया जाए तो यह घातक हो सकती हैं।

आगे दिए गए उदाहरण संभावित पेयजल संदूषकों और रिपोर्ट किए गए स्वास्थ्य प्रभावों का अनुसरण करते हैं, जो रासायनिक और कुल जोखिम के आधार पर सूक्ष्म से लेकर गंभीर तक हो सकते हैं।

Health Effects

आर्सेनिक – त्वचा, फेफड़े, मूत्राशय, गुर्दे और यकृत कैंसर से जुड़ा एक ज्ञात मानव कैंसरजन
लीड – बच्चों में व्यवहारिक और विकासात्मक प्रभाव; और हृदय और गुर्दे की समस्याएं
हाइड्रोलिक फ्रैक्चरिंग (फ्रैकिंग) रसायन – प्रतिरक्षा और प्रजनन प्रणाली को नुकसान
कीटनाशक – न्यूरोडेवलपमेंटल प्रभाव और पार्किंसंस रोग


2) जल प्रदूषण से होने वाले पर्यावरणीय प्रभाव ( Environmental Impacts of Water Pollution ):

जल प्रदूषण जलीय जीवन को नुकसान पहुँचा सकता है और पारिस्थितिकी तंत्र को बाधित कर सकता है। पानी में प्रवेश करने वाले जहरीले रसायन और प्रदूषक मछली को मार सकते हैं, जैव विविधता को कम कर सकते हैं और खाद्य श्रृंखला को नुकसान पहुंचा सकते हैं। यह जल स्रोत के पास रहने वाले पौधों और जानवरों को भी नुकसान पहुंचा सकता है।

Environmental Impacts of Water Pollution

जल प्रदूषण मछली की आबादी को कम करके, पर्यटन स्थलों को नुकसान पहुँचाकर और कृषि और उद्योग के लिए स्वच्छ पानी की उपलब्धता को कम करके अर्थव्यवस्था को प्रभावित कर सकता है। इससे राजस्व, नौकरियों और आर्थिक विकास को नुकसान हो सकता है।


Leave a Reply